Breaking News
Home / Uncategorized / Anna Mani`s Birth Anniversary : कौन हैं अन्ना मणि, जिनके प्रयास से भारतीय मौसम का पूर्वानुमान हुआ आसान, गूगल ने डूडल बनाकर किया उन्हें याद | Latest News 2022

Anna Mani`s Birth Anniversary : कौन हैं अन्ना मणि, जिनके प्रयास से भारतीय मौसम का पूर्वानुमान हुआ आसान, गूगल ने डूडल बनाकर किया उन्हें याद | Latest News 2022

Anna Mani`s Birth Anniversary : कौन हैं अन्ना मणि, जिनके प्रयास से भारतीय मौसम का पूर्वानुमान हुआ आसान, गूगल ने डूडल बनाकर किया उन्हें याद | Latest News 2022

आज (23 अगस्त) गूगल डूडल ने देश की पहली महिला( first women) वैज्ञानिकों में से एक भारतीय भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी अन्ना मणि का 104वां जन्मदिन मनाया है।उनके जीवन के काम और शोध ने भारत के लिए सटीक मौसम पूर्वानुमान करना बहुत आसान बनाया और देश के लिए अक्षय ऊर्जा का उपयोग करने के लिए आधार भी तैयार किया। अन्ना-मणि

अन्ना-मणि
अन्ना-मणि

1918 में आज ही के शानदार दिन जन्मी मणि पूर्व राज्य त्रावणकोर (वर्तमान केरल) में पली-बढ़ीं. थी उन्होंने अपने शुरुआती साल किताबों में डूबे हुए ही बिताए। 12 साल की उम्र तक, इन्होने ने अपने सार्वजनिक पुस्तकालय में करीबन हर एक किताब पढ़ ली थी. वो अपने जीवन भर में एक उत्साही पाठक ही बनी रहीं। अन्ना-मणि

मद्रास से भौतिकी और रसायन विज्ञान में ऑनर्स के साथ साथ बैचलर ऑफ साइंस पूरा

हाई स्कूल के बाद में, उन्होंने महिला क्रिश्चियन कॉलेज (WCC) में अपना इंटरमीडिएट साइंस कोर्स( science) भी किया और प्रेसीडेंसी कॉलेज( presidency college), मद्रास से भौतिकी और रसायन विज्ञान में ऑनर्स के साथ साथ बैचलर ऑफ साइंस भी पूरा किया। स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने एक साल के लिए डब्ल्यूसीसी में पढ़ाया और भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर में स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए छात्रवृत्ति भी प्राप्त की थी। अन्ना-मणि

भारतीय मौसम विभाग में उप महानिदेशक के पद पर इन्हे नियुक्त किया गया।

साल 1969 में अन्ना मणि को भारतीय मौसम विभाग में उप महानिदेशक के पद पर नियुक्त भी किया गया था. अन्ना मणि ने बंगलुरु में एक कार्यशाला को भी स्थापित किया था जो की हवा की गति और सौर ऊर्जा को मापने का काम भी करती थी, इसके अलावा उन्होंने ओजोन परत पर भी रिसर्च की थी। 1976 में वो भारतीय मौसम विभाग की उप-निदेशक पद से भी सेवानिवृत हुईं। अन्ना-मणि

अन्ना-मणि
अन्ना-मणि

अन्ना मणि एक भारतीय भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी थी जिन्होंने मौसम अवलोकन उपकरणों के डिजाइन में बहुत मूल्यवान अपना योगदान दिए थे, जो भारत को मौसम के पहलुओं को मापने में आत्मनिर्भर बनाने में अपनी बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वो वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों के रूप में सौर और पवन ऊर्जा का भी उपयोग करने के लिए वो एक प्रारंभिक वकील भी थीं, जो उन्होंने अपने देश के लिए वादा किए गए लाभों की भविष्यवाणी भी की थी। अन्ना-मणि

विज्ञान में उनके महत्वपूर्ण योगदान का सम्मान करने के लिए, Google मंगलवार को मणि के 104वें जन्मदिन के उपलक्ष्य में अपना डूडल भी समर्पित करेगा। अन्ना-मणि

लेकिन मणि के अलग अलग हित थे। और कहा जाता है कि एक उत्साही पाठक, मणि ने स्थानीय सार्वजनिक पुस्तकालय में करीबन सारी किताबें पढ़ी हैं। उनके आठवें जन्मदिन के लिए, उनके अनुरोध पर, उन्हें उनके परिवार के पारंपरिक हीरे के झुमके के बजाय एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के सेट पर भी दिया गया था। अन्ना-मणि

Anna Mani`s Birth Anniversary : कौन हैं अन्ना मणि, जिनके प्रयास से भारतीय मौसम का पूर्वानुमान हुआ आसान, गूगल ने डूडल बनाकर किया उन्हें याद | Latest News 2022

अन्ना-मणि
अन्ना-मणि

1939 में रसायन विज्ञान और भौतिकी में स्नातक की डिग्री भी हासिल करने के बाद, मणि ने हीरे और माणिक की स्पेक्ट्रोस्कोपी पर पांच पत्र भी लिखे, लेकिन उन्हें पीएच.डी. से वंचित कर दिया गया था। क्योंकि उसने पहले मास्टर डिग्री प्राप्त नहीं की थी।अन्ना-मणि

1945 में, उन्होंने इंग्लैंड में पढ़ाई करने, मौसम विज्ञान और मौसम में परिवर्तन को मापने के लिए आवश्यक उपकरणों के बारे में सीखने के लिए छात्रवृत्ति भी जीती। तीन साल बाद, वो भारत मौसम विज्ञान विभाग के लिए काम करने के लिए भारत भी लौट आईं थी, जहां उन्होंने देश को अपने मौसम-निगरानी उपकरणों का उत्पादन करने में बहुत मदद भी की। 1953 तक, वो 100 से ज्यादा मौसम उपकरणों के डिजाइन और उत्पादन को सरल बनाते हुए, डिवीजन का नेतृत्व भी कर रही थीं। अन्ना-मणि

अन्ना मणि की मृत्यु

मणि 1976 में अपनी सेवानिवृत्ति तक भारतीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक के रूप में सेवा करते हुए भारत सरकार के लिए काम करते रहे। 2001 में 82 वर्ष की आयु में ही उनकी मृत्यु हो गई।अन्ना-मणि 

ये भी पढिये –

Read Also – बायकॉट – अनुपम खेर ने आमिर खान पर बोला बड़ा हमला, लाल सिंह चड्ढा के बायकॉट पर बोल दी बड़ी बात | Latest News 2022

कॉक्सीनेल की 91वीं जयंती

About Hari Soni