बिंबिसार समीक्षा: कल्याण राम के प्रदर्शन से बचाई गई एक फंतासी फिल्म | Latest News 2022

0
16

बिंबिसार समीक्षा: कल्याण राम के प्रदर्शन से बचाई गई एक फंतासी फिल्म | Latest News 2022

बिंबिसार में दृश्य प्रभाव कठिन हैं; सेट ऐसे दिखते हैं जैसे उन्हें स्कूल के वार्षिक दिवस से भी उधार लिया गया हो।

फंतासी
फंतासी

मल्लीदी वशिष्ठ की पहली फिल्म बिंबिसार 500 ईसा पूर्व के एक राजा के बारे में है जो की अपनी मर्ज़ी के खिलाफ हमारी वर्तमान दुनिया में आता है। अहंकार और उन्मत्त ऊर्जा से भरपूर, वो अपने रास्ते में आने वाले किसी भी इंसान को बिलकुल भी नहीं बख्शता, चाहे वो गौरैया हो या फिर बच्चा। लेकिन त्रिगर्थला के सम्राट के रूप में अपने पद से अनजाने में हटा दिए जाने पर, फिर उन्होंने मानवता और धर्म के अर्थ की खोज शुरू कर दिया था।

अब ये एक बहुत ही गहन विचार की तरह भी लगता है लेकिन बिंबिसार, इसके दिल में, ये एक मसाला फिल्म है। पहले 20 मिनट या तो, ये एक भयानक मंच नाटक की तरह खेलता है। ये दृश्य प्रभाव बहुत कठिन हैं;
सेट ऐसे दिखते हैं जैसे की उन्हें स्कूल के वार्षिक दिवस से उधार लिया गया हो। मुझे इस बात की भी चिंता थी कि एक तेज हवा पूरे महल को एक्टर्स पर गिराने के लिए भी पर्याप्त होगी।

वरीना हुसैन के साथ एक आइटम नंबर भी है – जाहिर तौर पर, 500 ईसा पूर्व में महिला नर्तक ठीक उसी तरह से चल रही थीं जैसे की वो अब हमारे सिनेमा में करती हैं। और एक ऐतिहासिक तथ्य है जो की मुझे नहीं पता था।

और इसके अलावा, बिंबिसार (कल्याण राम) के पास खजाने की एक गुप्त गुफा की रखवाली करने वाले ‘चेरोकी’ आदिवासी योद्धाओं का एक झुंड भी है। और इन ‘चेरोकी’ आदिवासी लोगों के वंशज हमारे टाइम में भी गुफा की रखवाली करते हैं। मुझे समझ में नहीं आया कि ये कैसे हुआ कि चेरोकी अमेरिका में रहने वाले स्वदेशी लोग भी हैं।

फिल्म में चेरोकी लोग भी पुरे भारतीय लग रहे थे, जिससे मेरी पहेली और भी बढ़ गई थी। इस गुफा में सुरक्षा उपायों के रूप में रक्त विश्लेषण और हाथ के निशान और आवाज की भी पहचान है।

बिंबिसार समीक्षा: कल्याण राम के प्रदर्शन से बचाई गई एक फंतासी फिल्म | Latest News 2022

फंतासी
फंतासी

ये लगभग वैसा ही है जैसे की टॉम क्रूज़ ने 500 ईसा पूर्व की यात्रा की और इसे बिंबिसार के लिए बनाया था।
लेकिन एक एक्टर्स के रूप में कल्याण राम की सजा के बारे में कुछ कहा जाना भी चाहिए। जब वो एक मगरमच्छ के ऊपर भी चलता है, जो ऐसा लगता है कि वो छोटा भीम का है।

तो वो एक निश्चित रीगल हवा के साथ ऐसा करता है जो आपको बिंबिसार के चरित्र में खरीद भी लेता है। श्रीनिवास रेड्डी अपनी कमीने के रूप में अपनी व्यंग्यात्मक मूंछों के साथ बहुत प्रफुल्लित करने वाले हैं।
ये फिल्म तब बहुत बेहतर हो जाती है जब वो बिना बजट वाले बाहुबली सेट और वर्तमान हैदराबाद में लैंड करती है। कल्याण राम अपनी कॉमिक टाइमिंग को सामने भी लाते हैं, और फिल्म में कुछ ऐसे पल भी हैं जो की हंसी-मजाक वाले हैं। अतीत और वर्तमान के बीच की नाली एक दर्पण है और निर्देशक वशिष्ठ हास्य उत्पन्न करने के लिए इस कुएं का भी उपयोग करते हैं।

विवान भटेना ने सुब्रमण्य शास्त्री की भूमिका भी निभाई है, जो की एक आधुनिक चिकित्सक है, जो बिम्बिसार के खजाने की गुफा से कुछ चाहता है – आयुर्वेद पर एक पुस्तक जिसे धन्वंतरी भी कहा जाता है।
इस मिशन में सुब्रमण्या की सहायता करने वाला केतु (अयप्पा पी शर्मा)नाम का भगवा वस्त्र में एक डरावना दिखने वाला व्यक्ति भी है।
वशिष्ठ ने केतु को हम पर गिराया; हम नहीं जानते कि वो कहाँ से आया था या वो बिंबिसार के बारे में इतना कुछ कैसे जानता है।

फंतासी
फंतासी

लापरवाह लेखन दूसरे पात्रों तक भी फैला हुआ है। संयुक्ता मेनन एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की भूमिका भी निभाती हैं लेकिन वो कभी भी अपनी वर्दी में नहीं होती हैं;
क्या वो छोटे कपड़े ‘मुफ्ती’ के लिए होते हैं, और यदि हां, तो वो शुरुआत में अपने भेष में क्यों हैं?
ज्यादा उल्लेखनीय रूप से, जब बिंबिसार अपने आस-पास के लोगों को एक विशेषज्ञ कीट नियंत्रण ऑपरेटर की तरह बिजली के मच्छर के बल्ले से मारता है।

तो वो कुछ भी नहीं करती है। कैथरीन ट्रसा को एक राजकुमारी के रूप में एक ब्लिंक-एंड-मिस भूमिका भी मिलती है। आइटम नंबर के साथ वरीना को शायद उनसे ज्यादा स्क्रीन टाइम भी मिला।

बिंबिसार आनंद दायक होता भी है जब वो खुद को बहुत गंभीरता से नहीं लेता है, और नायक अपनी नई दुनिया के चारों ओर घूमता है। जब वो इससे आगे कुछ खींचने की कोशिश भी करता है,
तो वो लड़खड़ा जाता है। और साजिश में बहुत सारे छेद भी हैं जिनकी भरपाई एमएम केरावनी के धमाकेदार संगीत से नहीं की जा सकती है।
इसका नमूना: प्रकाश राज एक सुपर अमीर शाही परिवार के वंशज होते है। फिर भी, जब उसके परिवार को खतरा होता है।

तो वो पूरी तरह से असहाय हो जाता है और केवल घातक रूप से ही खड़ा रहता है। हमें ये भी बताया गया है कि प्राचीन धन्वंतरि में ‘डी-40’ नामक नए युग के वायरस के लिए एक ‘एंटीडोट’ भी है
जो की एक मरीज को तुरंत ही ठीक कर सकता है। ये तर्क दिया जा सकता है कि वो कल्पना का हिस्सा भी है लेकिन ये छद्म विज्ञान से ली गई एक गंभीर प्रेरणा की तरह भी लग रहा था।

बिंबिसार भागों में मनोरंजक भी है, और मुख्य रूप से कल्याण राम के प्रदर्शन द्वारा लंगर भी डाला गया है।
अगर वशिष्ठ ने मसाला फिल्म शैली के हर बॉक्स पर टिक करने की कोशिश नहीं की होती और सामग्री पर ज्यादा भरोसा किया होता तो ये बहुत ही बेहतर होता।

फंतासी
फंतासी

अस्वीकरण: इस समीक्षा के लिए भुगतान भी नहीं किया गया था या श्रृंखला/फिल्म से जुड़े किसी भी व्यक्ति द्वारा कमीशन नहीं किया गया था। TNM संपादकीय किसी भी व्यावसायिक संबंध से स्वतंत्र है
जो संगठन के उत्पादकों या उसके कलाकारों या चालक दल के किसी दूसरे सदस्य के साथ भी हो सकता है।

सौम्या राजेंद्रन लिंग, संस्कृति और सिनेमा पर भी लिखती हैं। उन्होंने किशोरों के लिए लिंग पर एक गैर-काल्पनिक पुस्तक सहित 25 से ज्यादा पुस्तकें भी लिखी हैं।
उन्हें 2015 में उनके उपन्यास मयिल विल नॉट बी क्विट के लिए साहित्य अकादमी के बाल साहित्य पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था।

ये भी पढिये –

Read Also – स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें | Latest News 2022

Bimbisara Review: A Fantasy Film Saved By Kalyan Ram’s Performance