Breaking News
Home / Uncategorized / विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022, विषय, इतिहास और महत्व | Latest News 2022

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022, विषय, इतिहास और महत्व | Latest News 2022

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022, विषय, इतिहास और महत्व | Latest News 2022

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022- इतिहास, महत्व और, विषय पर चर्चा की गई है।

महत्व
महत्व

विषयसूची 

  • विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: इतिहास
  • विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: महत्व
  • विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: थीम

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: हर साल 19 अगस्त को हमारे देश में विश्व फोटोग्राफी दिवस मनाया जाता है। सबसे ज्यादा इंपोर्टेंट कला रूपों में से एक माने जाने वाली फोटोग्राफी को मनाने के लिए हम्म विश्व फोटोग्राफी दिवस मनाते है।

फोटोग्राफी किसी की फीलिंग्स और उसके अंदर के भाव को बताती है और ये इंसान की अभिव्यक्ति को भी व्यक्त करने का एक साधन है। और एक प्रसिद्ध कहावत भी है जिसके बारे में बिलकुल सही ही बोला गया है कि एक फोटो एक हजार शब्दों के बराबर होती है।

कभी-कभी फोटो अपने शब्दों से ज्यादा प्रभावी ढंग से अपनी भावना को व्यक्त भी करती हैं। बहुत से लोगों के लिए, फोटोग्राफी उनका जूनून होने के साथ साथ उनका शोक भी होती है। 19वीं सदी की शुरुआत से हमारे देश में फोटोग्राफी उद्योग बहुत ही ज्यादा प्रगति भी कर रहा है

और मिलो के पत्थर भी achieved कर रहा है। कैमरा टेक्नोलॉजी में प्रोग्रेस की वजह से ही आज डिजिटल फोटोग्राफी ने फोटोग्राफी के सारे पुराने संस्करणों को पूरी तरह से बदल दिया है।

महत्व
महत्व

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: इतिहास

फ्रांसीसी लुई डागुएरे और जोसेफ नाइसफोर नीपसे द्वारा वर्ष 1837 में “डगुएरियोटाइप” नाम का एक फोटोग्राफिक प्रक्रिया का विकाश किया गया था। पहले लोग अपने हाथो से ही दर्श को बनाया करते थे।और इस प्रक्रिया में तांबे की एक शीट पर एक अत्यधिक विस्तृत की छवि बनाई गई थी। और फिर उस चादर पर चांदी के पतले कोट का लेप भी लगाया गया था।
और इस प्रोसेज में नेगेटिव का बिलकुल भी फायदा नहीं हुआ था। और कैमरे से स्थायी छवि प्राप्त करने का ये पहला तरीका ही था। विकास Daguerreotype एक तत्काल सफलता बन गया जो अपेक्षाकृत सस्ती और सटीक विधि भी थी।

फोटोग्राफिक स्टूडियो को हमारी पूरी दिनिया में जमाने कुछ ज्यादा टाइम नहीं लगा। फ्रेंच एकेडमी ऑफ साइंसेज ने 9 जनवरी 1839 को प्रक्रिया Daguerreotype की सबके सामने घोषणा की। फ्रांस की सरकार ने आविष्कार के लिए पेटेंट भी हासिल कर लिया और इसे “दुनिया को मुफ्त” उपहार के रूप में दे दिया था। और फिर पहली टिकाऊ और रंगीन फोटो वर्ष 1861 में ली गई थी। और पहली डिजिटल तस्वीर का आविष्कार 1957 में ही किया गया था।

विश्व फोटोग्राफी दिवस 2022: का महत्व

महत्व
महत्व

फोटोग्राफी उद्योग के माध्यम से प्राप्त जबरदस्त विकास का उत्सव मनाने के लिए हमारे यहाँ विश्व फोटोग्राफी दिवस मनाया जाता है। और फोटोग्राफी एक ऐसा चैनल है जिसके माध्यम से कहानियों, विचारों, स्थान, अनुभव और क्षणों को एक फोटो के रूप में कैद और संरक्षित किया जाता है। इतिहास और अतीत से जुड़े और सभी तथ्यों के बारे में जानने का एक साधन फोटोग्राफी के चैनल से है। उस पल वो कैद हो जाते हैं और हमारी पीढ़ियों तक हमेशा अमर रहते हैं।

विश्व फोटोग्राफी दिवस हमारे आने वाली पीढ़ी को फोटोग्राफी में अपना करियर बनाने के लिए भी प्रेरित करती है। फोटोग्राफी प्रतिभा और रचनात्मकता दोनों को अपने सामने लाती है जो की कभी-कभी छिप भी जाती है और किसी को भी इसके बारे में बिलकुल पता नहीं चलता है। ऐसे बहुत विषय हैं।

ये भी पड़े –

Read Also – घूम है किसी के प्यार में: नील भट्ट के ड्रंक लुक से लेकर ऐश्वर्या शर्मा की अजीबोगरीब डिलीवरी तक; टाइम्स जब साई-विराट का मेलोड्रामा हुआ ट्रोल | Latest News 2022

World Photography Day: 1826 में ली गई थी दुनिया की ‘पहली तस्वीर’,आज भी जारी है फोटोग्रॉफी का जादू, बदल गईं कितनी टेक्नॉलॉजी

About Hari Soni