Breaking News
Home / Uncategorized / विरुमन फिल्म समीक्षा: कार्थी की फिल्म बहुत ही प्रचलित है | Latest News 2022

विरुमन फिल्म समीक्षा: कार्थी की फिल्म बहुत ही प्रचलित है | Latest News 2022

विरुमन फिल्म समीक्षा: कार्थी की फिल्म बहुत ही प्रचलित है | Latest News 2022

विरुमन फिल्म समीक्षा: विरुमन इसे देखते टाइम आपको कुछ ज्यादा फील नहीं कराते हैं, ना ही आपको पालन-पोषण के बारे में बहुत सारे विचार छोड़ते हैं। ये बहुत ही हद तक एक प्रचलित फिल्म है।

विरुमन
विरुमन

निर्देशक मुथैया ने कुछ तमिल निर्देशकों में से एक के रूप में एक प्रतिष्ठा विकसित भी गयी है, जो की ग्रामीण तमिलनाडु के बारे में फिल्मों को खींच भी सकते हैं। फिर भी, उनकी फिल्में गांवों और वहा रहने वाले लोगों के बारे में कुछ खास बिलकुल नहीं बताती हैं। उनकी फिल्मों के सौंदर्यशास्त्र को ग्रामीण जीवन के वास्तविक प्रतिनिधित्व के लिए बहुत ही गलत भी माना जाता है।

जहां कार्थी ने इस फिल्म में अपने डेब्यू प्रोजेक्ट परुथिवीरन से अपने लुक को भी दुबारा दोहराया है, वहीं उनका का आमिर के 2007 के दुखद नाटक के लिए कोई भी मुकाबला नहीं है। बेशक, मुथैया जीवन के टुकड़े-टुकड़े करने का कोई भी नाटक नहीं करते हैं। वो सिर्फ स्वादिष्ट व्यावसायिक फिल्में बनाने के लिए ‘ग्रामीण’ टैग का भी फायदा उठाता है – या फिर तमिल सिनेमा की भाषा में, सामूहिक फिल्में।

अपनी पहली सभी फिल्मों की जैसे, इन्होने नैतिकतावादी स्टैंड और रूढ़िवादी विचारों के साथ एक और सीधी-सादी फिल्म आई है जिसका जनता ने स्वागत भी किया है। लेकिन, इनका और उनके पिछले उपक्रम जो काम भी करते हैं, वो ये है किवो बहुत ही मज़ेदार होते हैं – और बहुत बार अनजाने में।

विरुमन
विरुमन

उदाहरण के लिए इंटरवल सीन को ही लें लीजिये। ग्राम पंचायत में इन्होने  (कार्थी) और उसके पिता मुनियांडी (प्रकाश राज) के बीच बहुत ही मारपीट होने की भी कगार पर है। हीरो अपने ही पिता को जान से खत्म करने के लिए अपना धारदार हथियार भी निकालता है, लेकिन गांव वाले जबरदस्ती दोनों को अलग अलग भी कर देते हैं।

लेकिन विरुमन बहुत ही बेकाबू है, और वो मारने के लिए जाने से कुछ ही टाइम दूर होता है। अब, हमारी हीरोइन थान (अदिति), एक बाईस्टैंडर, हरकत में भी आती है और फिर हीरो को होठों पर जोर से चूमती है जिससे पूरी पंचायत एकदम से थम जाती है।

और फिर आता है इंटरवल कार्ड। ये मुथैया का हमें बताने का तरीका था “देखो, इस उग्र बैल को एक महिला के कोमल हाथो के स्पर्श से कैसे वश में किया गया है।” ये वास्तव में समस्याग्रस्त है। फिर भी, थिएटर निडर हो ही जाता है।

और जहां तक ​​कहानी की बात है,ये एक ऐसे बेटे के बारे में है जो की अपने भ्रष्ट और लालची पिता को नीचे गिरना चाहता है, जो की उसकी मां की आत्महत्या का भी कारण था। वो अपने मामा की मदद से, ये अपने तीन भाइयों को भी जीतने की बहुत ही कोशिश भी करता है और अपने पिता को ये साबित भी करता है कि जीवन में ऐसी भी चीजें हैं जो की पैसे या शक्ति से कभी भी नहीं खरीदी जा सकतीं है।

विरुमन फिल्म समीक्षा: कार्थी की फिल्म बहुत ही प्रचलित है | Latest News 2022

विरुमन
विरुमन

विरुमन के साथ सहज मुद्दा ये है कि इसमें कोई भी नहीं है। विरुमन शुरू से ही बहुत ही संघर्षहीन है। और चीजें ठीक वैसे ही चलती हैं जैसे की आप खुद चाहते हैं, और एक अजेय एक्टर्स के साथ, कुछ भी दांव पर भी नहीं लगता। विडंबना ये है कि ये फिल्म के पक्ष में काम भी करता है।

स्नूज़फेस्ट बनने के लिए, मुथैया की कहानी की भविष्यवाणी एक आसान सी घड़ी के लिए बनाती है। ओनली पुराने विचार ही नहीं, फिल्म तमिल सिनेमा के पुराने फॉर्मूले पर भी ये आधारित है, जहां पर सब कुछ एक सुखद नोट पर ही समाप्त होता है।

प्रकाश राज, कार्थी, और अदिति का सहज प्रदर्शन, छायाकार सेल्वा कुमार एसके के जीवंत फ्रेम, और युवान शंकर राजा का संगीत अलग अलग कारक हैं जो इस सामान्य उद्यम को बेचने में बहुत ही मदद भी करते हैं।

विरुमन में निहित लिंगवाद और उसके पारिवारिक मूल्यों के रोमांटिक कारन के बारे में कोई भी आगे बिलकुल भी नहीं बढ़ सकता है। साथ ही साथ, हमें ये आश्चर्य होता है कि जब तमिल निर्देशक – मुथैया से लेकर गौतम वासुदेव मेनन तक – हमारे हीरो की माताओं के लिए पत्नियों और गर्लफ्रेंड्स को स्टैंड-इन बनाने की सोच को भी छोड़ देंगे।

विरुमन में, एक दृश्य है जहां थान का चेहरा विरुमन की मृत मां की फोटो पर भी प्रतिबिंबित होता है – ये उन बहुत उदाहरणों में से एक था जहां मुझे फिल्म पर बहुत हंसी भी आई थी।

और लास्ट में, समस्याओं के बावजूद, विरुमन निर्माताओं और दर्शकों दोनों के लिए एक बहुत ही सुरक्षित फिल्म भी है। इसे देखते टाइम ये आपको कुछ ज्यादा महसूस नहीं कराता है, और ना ही आपको पालन-पोषण के बारे में कुछ ज्यादा विचार देता है। ये बहुत ही हद तक एक प्रचलित फिल्म भी है।

ये भी पड़े –

Read Also – ना थान केस कोडु’ की समीक्षा: हंसी का दंगा जो चुभता है | Latest News 2022

Viruman movie review: Karthi’s predictable drama creates a festival-like experience

About Hari Soni