सीता रामम फिल्म समीक्षा: दुलारे सलमान के अच्छे लुक्स, मृणाल ठाकुर ने इस सुस्त रोमांटिक कहानी को एक साथ रखा | Latest News 2022

0
15

सीता रामम फिल्म समीक्षा: दुलारे सलमान के अच्छे लुक्स, मृणाल ठाकुर ने इस सुस्त रोमांटिक कहानी को एक साथ रखा | Latest News 2022

सीता रामम फिल्म की समीक्षा: दुलकर सलमान और मृणाल ठाकुर की स्क्रीन उपस्थिति अन्यथा सुस्त कथन में थोड़ा जोश जोड़ती है। फिल्म को सहने योग्य बनाने के लिए मुख्य रूप से अपने अभिनेताओं के अच्छे लुक का फायदा भी उठाया जाता है।

सीता रामम
सीता रामम

प्रेम धर्म, राजनीति और भाषा के साथ सभी बाधाओं को पार कर जाता है।ये निर्देशक हनु राघवपुडी की नवीनतम रोमांटिक फिल्म सीता रामम की मुख्य प्रेरक भावना भी है।

और एक तरह से आधुनिक भू-राजनीति की अस्थिर पृष्ठभूमि पर बनी ये फिल्म निर्देशक की रामायण की पुनर्कल्पना भी है।
आफरीन (रश्मिका मंदाना), एक पाकिस्तानी नागरिक, महाकाव्य से हनुमान का रोल भी पे करती है , क्योंकि वो राम से सीता तक एक संदेश भी पहुँचता है।

आफरीन एक गर्वित पाकिस्तानी है, जो की किसी भी भारतीय के प्रति नकारात्मक प्रतिक्रिया देने के लिए राजनीतिक रूप से वातानुकूलित भी है।
गुस्से में आकर वो लंदन में एक अमीर भारतीय परोपकारी इंसान की कार को भी खतम कर देती है। आफरीन की हिंसक हरकत की भी शिकार पीड़िता उसे दो विकल्प भी देती है की।

या तो अपनी गलती स्वीकार करो या फिर माफी मांगो या एक लाख रुपये का भुगतान कर दो।अगर वो दोनों ही नहीं कर सकती है, तो उसे जेल हो सकती है।

इसलिए वो अपने धनी दादा से मिलने और जुर्माना भरने के लिए वापस पाकिस्तान भी चली आती है।
पकड़ ये है कि, असहमति की वजह से उसने वर्षों से उससे बात ही नहीं की और फिर उसे पता चला कि उसका तो निधन भी हो गया है।
चिंता नहीं करें, उसके दादा की संपत्ति उसकी वित्तीय समस्याओं को हल करने के लिए काफी है।

और फिर, एक पकड़ है: उसे पहले उसके लिए एक काम करना ही होगा। और मिशन सरल भी है:
एक भारतीय सैनिक, राम का लिखा गया पत्र को उस महिला के पास भी ले जाएं, जिसको वो प्यार भी करता है।

सीता, भारत में। अगर आफरीन ऐसा करने में नाकाम भी रहती है तो वो अपने परिवार की किस्मत को अलविदा भी बोल सकती है। और ऐसा भी लगता है कि उसके पास अब कोई रास्ता भी नहीं है, है ना?

आफरीन भारत के लिए एक उड़ान भी भरती है, एक यात्रा में तो उसे एक ऐसे इंसान में बदल देती है जो समझता है कि आप किसी से प्यार भी कर सकते हैं, वो भी किसी से नफरत किए बिना ही।

सीता रामम फिल्म समीक्षा: दुलारे सलमान के अच्छे लुक्स, मृणाल ठाकुर ने इस सुस्त रोमांटिक कहानी को एक साथ रखा | Latest News 2022

सीता रामम
सीता रामम

हनु प्रेम, शांति और भाईचारे के साझा इतिहास के एक सुंदर संदेश के इर्द-गिर्द कथा भी बुनते हैं। लेकिन, जिस विषय को फिल्म की सबसे बड़ी ताकत माना जाता था, वो इसकी सबसे बड़ी कमजोरी भी बन जाती है: रोमांस। जिस तरह से राम (दुलारे सलमान) और सीता (मृणाल ठाकुर) के बीच रोमांस होता है।

वो खुद को मजबूर महसूस करता है। दो चौड़ी आंखों वाले युवाओं के बीच आगे और पीछे की बातचीत भोली, निर्बाध है और अत्यधिक खिंचाव भी महसूस करती है।

इस फिल्म को जिस चीज की जरूरत थी, वो प्रेम कहानी पर ज्यादा ध्यान देने की थी और राम को इस बेदाग व्यक्ति के रूप में पेश करने पर भी कम थी।

सीता रामम
सीता रामम

एक तथ्य को स्थापित करने के लिए एक निर्देशक को 10 दृश्यों की आवश्यकता भीं नहीं होती है। अगर सही तरीके से किया जाए, तो इसे स्थापित करने के लिए एक शॉट ही बहुत है।

ये भी पड़े – 

Read Also – बिंबिसार समीक्षा: कल्याण राम के प्रदर्शन से बचाई गई एक फंतासी फिल्म | Latest News 2022

Hanu Raghavapudi’s old-world romance saga brims with earnestness and is helped by charming performances from Dulquer Salmaan and Mrunal Thakur