Breaking News
Home / Latest news / Krishna Janmashtami | जानिए वासुदेव ने कृष्ण के जीवन को कैसे बचाया ? Latest News 2022

Krishna Janmashtami | जानिए वासुदेव ने कृष्ण के जीवन को कैसे बचाया ? Latest News 2022

Krishna Janmashtami | जानिए वासुदेव ने कृष्ण के जीवन को कैसे बचाया ? Latest News 2022 

Krishna
Krishna

भाद्रपद मास,अष्ठमी तिथि,रात के 12 बजे और रोहिणी नक्षण। उस समय कंस के सभी प्रहरी गहरी निद्रा में सो गए। धरती पर केवल वसुदेव और देवकी ही जाग रहे थे,चंद्रमा भी बादलों की ओट से भगवान के अवतार के कृष्ण को निहार रहे थे।

देवकी के आठवें प्रसव का वक्त जैसे जैसे करीब आ रहा था,कंस की जेल में नियुक्त प्रहरी ही नहीं,आसपास के वातावरण में भी मलीनता कम होने लगी थी।

उधर,देवकी तो पहले से ही काफी सुंदर थी,लेकिन इस गर्भ के आखिर में उनका रूप इस कदर निखर गया था कि उनके चेहरे से नजर नहीं हटती थी। श्रीमदभागवत में देवकी के इस रूप का विस्तार से वर्णन किया गया है। Krishna

आखिर वह दिव्य समय आ ही गया भाद्रपद मास,अष्ठमी तिथि,रात के 12 बजे और रोहिणी नक्षण। उस समय कंस के सभी प्रहरी गहरी निद्रा में सो गए। धरती पर केवल वसुदेव और देवकी ही जाग रहे थे,चंद्रमा भी बादलों की ओट से भगवान के अवतार के कृष्ण को निहार रहे थे।

नंद बाबा के घर पहुंचा कर वसुदेव ने की कृष्ण की रक्षा

Krishna
Krishna

भगवन के चार भुजा रूप को देख कर जब देवकी ने बाल रूप में आने के लिए बोला तो भगवन ने कहा की इस रूप में तो में खुद की रक्षा नहीं कर सकता दुनिया की कैसे करुगा। यह सुनकर देवकी वसुदेव चिंतित हो गए थे। लेकिन भगवान ने उन्हें बताया कि वह चाहें तो उन्हें तत्काल गोकुल में नंदबाबा के घर पहुंचा सकते हैं।

ठीक इसी समय नंदबाबा को एक बेटी हुई, उस बेटी को अपने साथ यहां ले आए।

देवकी वसुदेव को बेड़ियां लग गई, प्रहरी जाग गए। इतने में बच्ची ने रोना भी शुरू कर दिया। उसका रोना सुनकर प्रहरियों ने कंस को सूचना दी। कंस भी इसी पल का इंतजार कर रहा था, वह दौड़े दौड़े आया और देवकी के हाथ से बच्ची को छीन कर पत्थर पर पटक दिया।

लेकिन वह बच्ची उसके हाथ से निकल कर यह कहते हुए अंर्तध्यान हो गई कि देवकी का आठवां पुत्र कहीं और जन्म ले चुका है। Krishna

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2022 कब मनाया जाता है ?

Krishna
Krishna
श्री कृष्ण जन्माष्टमी आरम्भ Thursday, 18 August 2022
श्री कृष्ण जन्माष्टमी समाप्त Friday, 19 August 2022

हिंदू धर्म की मानता के अनुसार सृष्टि के पालनकर्ता कहे जाने वाले श्री हरि विष्णु के आठवें अवतार प्रभु कृष्ण हैं।

कृष्णा जी के जन्मदिन के इस शुभ अवसर पर इस दिन को जन्माष्टमी के रूप में हम सब मनाते हैं।

भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रात्रि में मथुरा नगरी में कृष्ण भगवान ने पृथ्वी पर अपना अवतार लिया. उस समय मथुरा के राजा अत्याचारी कंस के प्रहार से प्रजा काफी दुखी हो गए थी।

इसलिये दिन: दुखियों के रक्षक भगवान श्री कृष्ण स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे तथा उन्होंने कंस को मार दिया था। Krishna

 

Read Also – पुरे भारतवर्ष में जन्माष्टमी की धूम हर कही देखी जा सकती है, कान्हा जी के जन्मदिन के इस मौके पर देशभर में धूमधाम से सजावट की जाती है.

Read Also – देशभर में आज आजादी का जश्न मनाया गया हैं। इस साल आजादी का दिन कई मायनों में काफी अहम है। इस साल देश ने अपनी आजादी के 75 साल पूरे कर लिए हैं।

About Hari Soni